तसवीरें

१९१४ की दुनिया आज की दुनिया से बेहद अलग दिखती थी। ब्रिटिश राज की प्रजा के लिए एक दूसरे को देखने का इक माध्यम थी मीडिया की नज़र। समूहों और व्यक्तियों के स्तर पर, १०० साल पहले कनेडियन अखबारों में जिन तरीकों के साथ ग़ैर-यूरोपीय लोगों को दर्शाया जाता था, यह तरीके ब्रिटिश साम्राज्य में चल-बदल रहे संवाद की झलक पेश करते हैं। दृष्टिकोणों और तालमेल में आये बदलाव, इक राष्ट्र की आखों देखी संस्कृति की ओर ध्यान मोड़कर दिखाते हैं कि आकार ले रही संस्कृति को भेदा जा सकता है - जिससे "हमारे" और "उनके" को अर्थ मिलते हैं। यहाँ सूचीबद्ध की गयी चीज़ों में शामिल हैं एतिहासिक तसवीरें और अखबारों में छपे राजनितिक कार्टून। तस्वीरों को जिस तरह बनाया गया है महज़ उसी तरह देखा जा सकता है लेकिन शायद तस्वीरों के पीछे गहरी कहानियाँ छुपी हुई हैं। यह तसवीरें किसके नज़रिए से हैं?
यह किन के लिए बनायी गयी हैं? क्या कार्टूनों और तस्वीरों के बीच समानताएं हैं? यह ऐसे कुछ सवाल हैं जो उठाये जाते हैं जब इतिहास को आखों से देखा-समझा जाता है।

आप हर एक चीज़ के थम्बनेल को नीचे क्लिक करके, उसे बड़ा करके देख सकते हैं। कुछ दस्तावेज़ों को देखने के लिए, अपना माउस उनके कुछ हिस्सों पर रखें और जानें कि अन्य दस्तावेज़ों और घटनाओं से यह कैसे सम्बंधित हैं। जब आप किसी विषय को बड़ा करके पढ़ रहे हों तब उस स्क्रीन के नीचे "तफसील देखें" का लिंक होगा। यहाँ आपको उस विषय का बेहतर दिखने वाला रूप मिलेगा। विस्तृत ग्रन्थ-सूची सम्बंधी जानकारी देखें और (जहाँ उपलब्ध हो) विषय से सम्बंधित कई पन्नों को पलटकर पढ़ें।